Press "Enter" to skip to content

इंडिया कॉपर फोरम के चौथे संस्करण का आयोजन

rx online
;strong>नई दिल्ली: इंटरनेशनल कॉपर एसोसिएशन इंडिया (आईसीए इंडिया) ने इंडिया कॉपर फोरम (आईसीएफ) के चौथे संस्करण का आयोजन किया। इस कार्यक्रम में कॉपर वैल्यूस चेन के करीब 160 प्रतिनिधि शामिल हुए। फोरम में ऑन रोड़ इलेक्ट्रिक व्हीकल, वर्किंग चार्जिंग स्टेशन और बैटरी की भी प्रदर्शनी दिखाई गई। इस दौरान कॉपर एक्सीलेंस अवार्ड्स भी प्रदान किए गए। आईसीए इंडिया ने कॉपर एक्सीलेंस अवार्ड्स 2018 के तहत ऊर्जा दक्षता का पुरस्कार दुर्गापुर स्टील प्लांट (सेल) के कार्यकारी निदेशक टी बी सिंह को दिया । वहीं लाइफटाइम एक्सीलेंस पुरस्कार राम रत्ना वायर्स लि. के प्रबंध निदेशक रमेश्वरलाल काबरा को भारत में तार और केबल उद्योग को आकार देने में उनके उत्कृष्ट योगदान के लिए दिया गया। बयान में कहा गया विनिर्माण उत्कृष्टता का अवार्ड जिंदल्स रेक्टिफायर्स के मुख्य कार्यकारी अधिकारी शरद गोयल को दिया गया। यह उद्योग के समक्ष मौजूद बिजली गुणवत्ता के मुद्दों को हल करने के लिए 100 फीसदी कॉपर आधारित समाधान प्रदान करने के लिए दिया गया। चौथे फोरम समारोह के लिए वाणिज्य, उद्योग एवं नागरिक विमानन मंत्री सुरेश प्रभु की ओर एक वीडियो जारी किया गया। इसमें सुरेश प्रभु ने कहा, “कॉपर एक महत्वपूर्ण तत्व है। देश में कुछ बेहद अच्छे धातु गलाने वाले हैं और हमारी उत्पादन क्षमता काफी अच्छी है। कॉपर दुनिया में विकास का एक महत्वपूर्ण कारक होगा। भारत को कॉपर संबंधी मुद्दों पर ध्यान देना चाहिए। हम देश में कॉपर विनिर्माण को बढ़ावा देंगे कि भविष्य में भारत फिनिश्ड कॉपर का शुद्ध निर्यातक देश बन जाए।

सुरक्षा, ऊर्जा दक्षता और विश्वसनीयता को बढ़ाने पर जोर

इंटरनेशनल कॉपर एसोसिएशन इंडिया के प्रबंध निदेशक संजीव रंजन ने कहा, इंडिया कॉपर फोरम के इस संस्करण के लिए प्रतिनिधियों की इतनी मजबूत भागीदारी देखकर हमें विश्वास है कि प्राथमिक और द्वितीयक तांबा उत्पादकों समेत संपूर्ण उद्योग की आवाज को बुलंद करने में अग्रणी भूमिका निभाएगा ।उन्होंने कहा कि भारत में मानक बहुत अच्छे हैं, लेकिन लागू करने के लिए सही निगरानी की कमी है। लिहाजा आईसीए इस पर सरकारी साझीदारों के साथ काम कर रहा है। संजीव रंजन ने कहा कि आईसीए तांबा की मांग का अगला चरण भी देख रहा है, इसलिए हम बी2बी और बी2सी ग्राहकों के लिए तेजी से काम कर रहे हैं।अब हमारा जोर सुरक्षा, ऊर्जा दक्षता और विश्वसनीयता को बढ़ाने पर है।

More from विज्ञान-टेक्नॉलॉजीMore posts in विज्ञान-टेक्नॉलॉजी »

Be First to Comment

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

https://bestlatinwomen.com/puerto-rican-brides/